SSY Scheme: सुकन्या समृद्धि योजना में हुए 5 बड़े बदलाव, मामूली निवेश पर मिलेंगे 10 लाख रुपये

Sukanya Samriddhi Yojana 2024: सरकार द्वारा महिलाओं और बालिकाओं के लिए विभिन्न प्रकार की सरकारी योजनाओं का संचालन किया जा रहा है और बेटियों के लिए एक ऐसी ही योजना है सुकन्या समृद्धि योजना इस योजना के अंतर्गत बेटी का भविष्य सुरक्षित करने का सबसे अच्छा और सुरक्षित तरीका है जिससे बेटियों की भविष्य में पढ़ाई और शादी में होने वाले खर्च की पूर्ति आसानी से की जा सकती है इस योजना के अंतर्गत माता-पिता के द्वारा अपनी बेटियों के 10 वर्ष की आयु 10 वर्ष पूरी होने से पहले खाता खुलवाया जा सकता है यह खाता बैंक या पोस्ट ऑफिस के माध्यम से खुलवा सकते हैं इस खाते में बालिका के माता-पिता को प्रति साल ढाई सौ से लेकर डेढ़ लाख रुपए तक जमा करने होते हैं इस योजना के अंतर्गत खोले गए बचत खाते में सरकार द्वारा एक निश्चित दर पर जमा राशि पर चक्रवृद्धि ब्याज भी दिया जाता है।SSY Scheme

जून में खत्म होने वाली तिमाही पर सरकार की ओर से ब्याज दरों की समीक्षा की जाएगी हालांकि इस बार सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत ब्याज दर में बदलाव की उम्मीद कम ही दिखाई दे रही है इस योजना के तहत निवेश करने पर 8.2% सालाना का ब्याज दिया जाता है इसमें निवेश करने पर 80c के अंतर्गत इनकम टैक्स में भी छूट मिलती है आईए जानते हैं पिछले कुछ दिनों में सुकन्या समृद्धि योजना में हुए पांच बड़े बदलाव के बारे में।

● सुकन्या समृद्धि योजना के नियमों के तहत खाते में गलत ब्याज जमा होने पर उसे ब्याज वापस लौटाने का प्रावधान को हटा लिया गया है इसके अंतर्गत खाते का सालाना ब्याज हर वित्त वर्ष के अंत में क्रेडिट कर दिया जाएगा इससे पहले यह तिमाही आधार पर खाते में क्रेडिट किया जाता था।

● पहले के नियमों के तहत अगर बेटी 10 साल की हो जाती थी तो वह अपने खाते को ऑपरेट कर सकती थी लेकिन नए नियमों के तहत इसमें बदलाव कर दिया गया है नए नियमों के अंतर्गत अब 18 साल की उम्र से पहले बेटियों को सुकन्या समृद्धि का खाता ऑपरेट करने की अनुमति नहीं है 18 साल तक केवल अभिभावक ही सुकन्या कन्या समृद्धि योजना के अकाउंट को ऑपरेट कर सकते हैं।

● सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट में सालाना कम से कम ₹250 और अधिकतम डेढ़ लाख रुपए जमा करने का नियम बनाया हुआ है यदि आपने न्यूनतम राशि जमा नहीं की है तो आपका सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट डिफॉल्ट हो सकता है अपडेटेड नियम के अंतर्गत अकाउंट को दोबारा एक्टिव नहीं करने पर मैच्योर होने तक अकाउंट में जमा राशि पर लागू दर से ब्याज मिलता रहेगा जबकि यह नियम पहले नहीं था।

● सुकन्या समृद्धि के पहले नियमों के आधार पर दो बेटियों के अकाउंट पर 80c के अंतर्गत इनकम टैक्स से छूट का फायदा प्राप्त होता था लेकिन अब यदि आपकी तीसरी बेटी है तो उसके जन्म पर भी सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट खोला जा सकता है इस नियम के अंतर्गत पहली बेटी के बाद होने वाली दो लड़कियां अगर जुड़वा है तो अकाउंट खोलने का नियम है इस तरह कोई भी व्यक्ति अपनी तीन बेटियों के लिए इस प्रकार खाता खुलवा सकता है।

● सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत पहली बेटी की मौत या बेटी के रहने का पता बदलने पर बंद कर दिया जाता था लेकिन अब खाताधारक की जानलेवा बीमारी को भी इसमें शामिल कर लिया गया है अभिभावक की मौत होने पर भी समय से पहले अकाउंट बंद कर सकते हैं।

₹500 ₹2000 के निवेश करने पर प्राप्त कर सकते हैं ₹10,00000

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 15 सालों तक निवेश करना पड़ता है और 21 सालों में स्कीम मैच्योर हो जाती है मौजूदा समय में 8.2 प्रतिशत के हिसाब से ब्याज दिया जा रहा है अगर प्रत्येक महीने ₹500 का निवेश करते हैं तो साल भर में आपको ₹6000 निवेश करने होंगे इस प्रकार 15 सालों में आपको कुल 90000 रुपए जमा करने होंगे 15 से 21 साल के बीच अगर आप कोई निवेश नहीं करेंगे तो भी आपको 8.02 फ़ीसदी के हिसाब से ब्याज मिलता रहेगा इस तरह देखा जाए तो 90000 के निवेश पर आपको 160000 से अधिक ब्याज मिलेगा और मैच्योरिटी पर लगभग ₹300000 का रिटर्न प्राप्त हो जाएगा इस तरह मामूली राशि का निवेश करके भी आप बेटी के लिए एक अच्छा खासा अमाउंट जोड़ सकते हैं अगर आपके पास बजट थोड़ा सा ज्यादा है तो आप इस योजना में ₹2000 जमा करते हैं तो आपको मैच्योरिटी पर 10 लख रुपए तक प्राप्त हो सकते हैं।

अचानक पड़ जाए Personal Loan की जरूरत तो जान लें कौन सा बैंक दे रहा है सबसे कम दर पर Personal Loan

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment